• Hindi News
  • International
  • Dragon Will Now Give A Booster Dose Of Germany To People Who Have Taken Both Doses; Decision After Jump In Infection

बीजिंग2 दिन पहले

चीन वैक्सीन के दोनों डोज ले चुके लोगों को बूस्टर डोज देने की तैयारी कर रहा है। चीन के फोसुन फार्मा और जर्मनी के बायोएनटेक की MRNA वैक्सीन का बूस्टर डोज उन लोगों को दिया जाएगा, जो चीनी वैक्सीन लगवा चुके हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, चीनी अधिकारी कॉमिरनाटी नाम की वैक्सीन को बूस्टर डोज के तौर पर इस्तेमाल करने का विचार कर रहे हैं।

इस वैक्सीन का इस्तेमाल आमतौर पर अमेरिका और यूरोप में किया जा रहा है। लेकिन फोसुन के पास चीन में वैक्सीन के निर्माण और वितरण का विशेष अधिकार है। वहीं बायोएनटेक की वैक्सीन मौजूदा वक्त में चीनी सरकार की अनुमति का इंतजार कर रही है, ये टीका वायरस के प्रति 95% तक प्रभावशाली है। मालूम हो कि चीन दावा कर रहा है कि वह 140 करोड़ लोगों को वैक्सीन लगा चुका है।

चीनी वैक्सीन लगाने वाले देशों में संक्रमण में उछाल के बाद फैसला
चीन ने बूस्टर डोज देने का फैसला ऐसे वक्त लिया है, जब मंगोलिया, सेशेल्स और बहरीन जैसे देशों में कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं। इन देशों में चीनी वैक्सीन लगाई गई है। चीनी टीके वायरस के प्रति 50% से लेकर 80% तक प्रभावी हैं, जो मॉडर्ना और फाइजर टीकों की तुलना में कम प्रभावी हैं।

चीन में मंकी बी वायरस से दुनिया में पहली मौत
महामारी के बीच चीन में मंकी बी वायरस से एक पशु चिकित्सक की मौत हो गई। इस वायरस से दुनिया में यह मौत का पहला मामला है। रिपोर्ट के मुताबिक, 53 वर्षीय डॉक्टर बीजिंग का रहने वाला था। उसके करीबी मंकी बी से सुरक्षित हैं। डॉक्टर गैर-मानव प्राइमेट्स पर शोध करने वाली संस्था के लिए काम करता था। उसने मार्च में दो मृत बंदरों की चीड़फाड़ कर सर्जरी की थी। इसके एक महीने बाद उसमें उल्टी जैसे शुरुआती लक्षण देखे गए थे।

खबरें और भी हैं…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here