डिजिटल ब्यूरो, अमर उजाला, नई दिल्ली
Published by: Harendra Chaudhary
Updated Tue, 04 May 2021 01:41 PM IST

सार

आप सांसद मान ने कहा कि देश में पहली बार अचानक ही लॉकडाउन लगा दिया गया था, इस अचानक लिए गये निर्णय के कारण लाखों लोगों को भारी संकट का सामना करना पड़ा था। हजारों लोगों की जान चली गई थी तो करोड़ों लोगों को अनेक अन्य समस्याओं का सामना करना पड़ा था…

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

पंजाब सहित देश के अनेक हिस्सों में लॉकडाउन लगाये जाने की परिस्थितियां बन रही हैं और इस विकल्प पर गंभीर चर्चा हो रही है। इसी बीच आम आदमी पार्टी सांसद भगवंत सिंह मान ने कहा है कि लॉकडाउन लगाये जाने के पहले जनता को पूरा अवसर मिलना चाहिए। यह निर्णय अचानक नहीं लिया जाना चाहिए, जिससे किसी को कोई तकलीफ न होने पाए। उन्होंने कहा कि सरकार इस निर्णय लेने की स्थिति में हर परिवार तक राशन और दवाओं की उपलब्धता को सुनिश्चित कराए।

आप सांसद मान ने कहा कि देश में पहली बार अचानक ही लॉकडाउन लगा दिया गया था, इस अचानक लिए गये निर्णय के कारण लाखों लोगों को भारी संकट का सामना करना पड़ा था। हजारों लोगों की जान चली गई थी तो करोड़ों लोगों को अनेक अन्य समस्याओं का सामना करना पड़ा था।

उन्होंने कहा कि कोरोना का संक्रमण बढ़ने से रोकने के लिए अगर लॉकडाउन का फैसला लेना अनिवार्य है, तो वे इसके साथ हैं, लेकिन इस तरह का कोई फैसला अचानक न लिया जाये। बल्कि इसे सबकी सहमति से लिया जाये और लॉकडाउन लगाने के पहले लोगों को अपनी जरूरत की चीजें इकट्ठी करने का अवसर दिया जाये। 

विस्तार

पंजाब सहित देश के अनेक हिस्सों में लॉकडाउन लगाये जाने की परिस्थितियां बन रही हैं और इस विकल्प पर गंभीर चर्चा हो रही है। इसी बीच आम आदमी पार्टी सांसद भगवंत सिंह मान ने कहा है कि लॉकडाउन लगाये जाने के पहले जनता को पूरा अवसर मिलना चाहिए। यह निर्णय अचानक नहीं लिया जाना चाहिए, जिससे किसी को कोई तकलीफ न होने पाए। उन्होंने कहा कि सरकार इस निर्णय लेने की स्थिति में हर परिवार तक राशन और दवाओं की उपलब्धता को सुनिश्चित कराए।

आप सांसद मान ने कहा कि देश में पहली बार अचानक ही लॉकडाउन लगा दिया गया था, इस अचानक लिए गये निर्णय के कारण लाखों लोगों को भारी संकट का सामना करना पड़ा था। हजारों लोगों की जान चली गई थी तो करोड़ों लोगों को अनेक अन्य समस्याओं का सामना करना पड़ा था।

उन्होंने कहा कि कोरोना का संक्रमण बढ़ने से रोकने के लिए अगर लॉकडाउन का फैसला लेना अनिवार्य है, तो वे इसके साथ हैं, लेकिन इस तरह का कोई फैसला अचानक न लिया जाये। बल्कि इसे सबकी सहमति से लिया जाये और लॉकडाउन लगाने के पहले लोगों को अपनी जरूरत की चीजें इकट्ठी करने का अवसर दिया जाये। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here