{“_id”:”60bcb1428ebc3e9a955d707b”,”slug”:”gorakhpur-stf-team-shot-on-shooter-parvej-ahmad-in-encounter”,”type”:”story”,”status”:”publish”,”title_hn”:”u092fu0942u092au0940: u090fu0938u091fu0940u090fu092b u0928u0947 u092eu0941u0920u092du0947u095c u092eu0947u0902 u092au0930u0935u0947u091c u0905u0939u092eu0926 u0915u094b u0915u093fu092fu093e u0922u0947u0930, u090fu0915 u0932u093eu0916 u0915u093e u0907u0928u093eu092eu0940 u0925u093e u092cu0926u092eu093eu0936″,”category”:{“title”:”Crime”,”title_hn”:”u0915u094du0930u093eu0907u092e”,”slug”:”crime”}}

अमर उजाला नेटवर्क, गोरखपुर।
Published by: vivek shukla
Updated Sun, 06 Jun 2021 05:21 PM IST

घटनास्थल पर जुटी पुलिस।
– फोटो : अमर उजाला।

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले से बड़ी खबर आ रही है। यहां रविवार को डिप्टी एसपी धर्मेश कुमार शाही और निरीक्षक सत्य प्रकाश सिंह गोरखपुर एसटीएफ की टीम ने परवेज अहमद को चिलुवाताल थानाक्षेत्र के रोहिन नदी के बंधे पर मुठभेड़ में मार गिराया। वह काफी समय से एसटीएफ की रडार पर था।

जानकारी के मुताबिक, परवेज अहमद अंबेडकर नगर के मकदूमपुर के कई हत्याओं के मामले में वांछित था। वह नेपाल से वसूली का सिंडिकेट चला रहा था। ऐसे में वह रविवार को गोरखपुर किसी करीबी से मिलने आया था। मुलाकात से पहले ही चिलुआताल में एसटीएफ ने घेर लिया।   

लगभग डेढ़ वर्ष पहले हंसवर निवासी बसपा नेता जुरगाम जब अपने वाहन से जनपद न्यायालय पेशी पर जा रहे थे तभी रास्ते मे उन्हें घेर कर मार डाला गया था। ताबड़तोड़ फायरिंग में उनके चालक शुभनीत यादव की भी मौत हो गई थी।

कई बदमाशों को जेल भेजे जाने के बावजूद अलीगंज थानाक्षेत्र अंतर्गत मखदूमनगर मूल निवासी परवेज फरार चल रहा था। वह वैसे हंसवर थानाक्षेत्र अंतर्गत औझीपुर स्थित अपनी ससुराल में ही रहता था। फरारी के चलते उस पर एक लाख का इनाम घोषित किया गया था। इस बीच गोरखपुर में कुछ देर पहले हुए एनकाउंटर में उसे ढेर कर दिया गया।

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले से बड़ी खबर आ रही है। यहां रविवार को डिप्टी एसपी धर्मेश कुमार शाही और निरीक्षक सत्य प्रकाश सिंह गोरखपुर एसटीएफ की टीम ने परवेज अहमद को चिलुवाताल थानाक्षेत्र के रोहिन नदी के बंधे पर मुठभेड़ में मार गिराया। वह काफी समय से एसटीएफ की रडार पर था।

जानकारी के मुताबिक, परवेज अहमद अंबेडकर नगर के मकदूमपुर के कई हत्याओं के मामले में वांछित था। वह नेपाल से वसूली का सिंडिकेट चला रहा था। ऐसे में वह रविवार को गोरखपुर किसी करीबी से मिलने आया था। मुलाकात से पहले ही चिलुआताल में एसटीएफ ने घेर लिया।   

लगभग डेढ़ वर्ष पहले हंसवर निवासी बसपा नेता जुरगाम जब अपने वाहन से जनपद न्यायालय पेशी पर जा रहे थे तभी रास्ते मे उन्हें घेर कर मार डाला गया था। ताबड़तोड़ फायरिंग में उनके चालक शुभनीत यादव की भी मौत हो गई थी।

कई बदमाशों को जेल भेजे जाने के बावजूद अलीगंज थानाक्षेत्र अंतर्गत मखदूमनगर मूल निवासी परवेज फरार चल रहा था। वह वैसे हंसवर थानाक्षेत्र अंतर्गत औझीपुर स्थित अपनी ससुराल में ही रहता था। फरारी के चलते उस पर एक लाख का इनाम घोषित किया गया था। इस बीच गोरखपुर में कुछ देर पहले हुए एनकाउंटर में उसे ढेर कर दिया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here