लखीमपुर खीरी हिंसा: केंद्रीय मंत्री का बेटा आशीष जेल भेजा गया, 11 अक्टूबर को होगी कोर्ट में सुनवाई; हत्या, लापरवाही से गाड़ी चलाने और आपराधिक साजिश का केस

2

  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • Lakhimpur Kheri Violence; Union Minister Of State For Home Ajay Mishra’s Son Ashish Mishra Will Appear Before The Investigating Agency Today, Arrest May Be Made After Interrogation ..

लखनऊ21 घंटे पहले

लखीमपुर हिंसा के मुख्य आरोपी और केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र के बेटे आशीष को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। अब 11 अक्टूबर को कोर्ट में सुनवाई होगी। इससे पहले करीब 12 घंटे तक उससे पूछताछ हुई। आशीष पर मर्डर, एक्सीडेंट में मौत, आपराधिक साजिश और लापरवाही से वाहन चलाने की धाराओं में केस दर्ज किया गया है। मजिस्ट्रेट के सामने कलमबंद उसके बयान दर्ज किए गए हैं। आशीष का क्राइम ब्रांच में ही मेडिकल टेस्ट हुआ।

डीआईजी उपेंद्र कुमार ने बताया कि आशीष मिश्रा जांच में सहयोग नहीं कर रहा। कुछ सवालों के जवाब भी नहीं दे सके। इसलिए उसे गिरफ्तार किया गया है। अब कोर्ट में पेश किया जाएगा।

आशीष मिश्र को लखीमपुर जेल कड़ी सुरक्षा में ले जाया गया है।

वहीं, आशीष को क्राइम ब्रांच में VIP ट्रीटमेंट मिला। उसे मेडिकल परीक्षण के लिए लखीमपुर जिला अस्पताल ले जाया गया। इसके लिए इमरजेंसी मेडिकल ऑफिसर डॉ. अखिलेश कुमार क्राइम ब्रांच में पहुंचे और मेडिकल टेस्ट किया गया। इससे पहले आशीष घटना के सातवें दिन शनिवार को क्राइम ब्रांच के सामने सुबह 10:36 पर पेश हुआ। इस दौरान उसने रुमाल से अपना मुंह छिपा रखा था। और पिछले दरवाजे से इंट्री की थी।

12 घंटे की पूछताछ में 14 बार भेजा गया चाय-नाश्ता
क्राइम ब्रांच में पूछताछ के दौरान 14 बार चाय और नाश्ता अंदर गया। आशीष मिश्रा के साथ उनके वकील अवधेश सिंह और मंत्री अजय मिश्र टेनी के प्रतिनिधि अरविंद सिंह संजय और भाजपा के सदर विधायक योगेश वर्मा भी अंदर मौजूद रहे। क्राइम ब्रांच के दफ्तर में SDM सदर भी मौजूद रहे।

पूछताछ में 10 एफिडेविट और एक पेन ड्राइव के साथ दो मोबाइल पेश किए गए। इनसे SIT संतुष्ट नहीं दिखी। बताया जा रहा है कि 13 वीडियो SIT को दिए गए हैं। इनकी जांच फॉरेंसिक एक्सपर्ट करेंगे।

लखीमपुर के क्राइम ब्रांच ऑफिस में बड़ी संख्या में पुलिसवालों को तैनात किया गया है।

लखीमपुर के क्राइम ब्रांच ऑफिस में बड़ी संख्या में पुलिसवालों को तैनात किया गया है।

आशीष ने दंगल में होने के वीडियो पेश किए
आशीष से 6 लोगों की टीम ने पूछताछ की। लखीमपुर में क्राइम ब्रांच के दफ्तर में आशीष मिश्रा से मजिस्ट्रेट के सामने सवाल-जवाब किए गए। आशीष अपने वकील के साथ मौजूद रहा। पूछताछ में डीआईजी उपेंद्र अग्रवाल और लखीमपुर के एसडीएम भी शामिल रहे।

आशीष मिश्रा ने अपने पक्ष में कई वीडियो पेश किए। उन्होंने 10 लोगों के बयान का हलफनामा भी पेश किया, जो बताते हैं कि वो काफिले के साथ नहीं था, दंगल मैदान में था।

किसानों ने खोल रखा था मोर्चा
संयुक्त किसान मोर्चा लगातार मामले के आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग कर रहा है। किसान अजय मिश्र को मंत्री पद से हटाने और आशीष मिश्रा को गिरफ्तार करने की मांग कर रहे थे। मोर्चे ने इस घटना को लेकर आगे के कार्यक्रमों का भी ऐलान किया है।

अजय मिश्र बोले- हम आपके साथ हैं
लखीमपुर में केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी ने BJP दफ्तर की बालकनी में आकर समर्थकों से शांत कराया। उन्होंने कहा कि बेटा पूछताछ के लिए गया है। इस सरकार में निष्पक्ष जांच होगी। ऐसी-वैसी कोई बात नहीं है। ऐसी-वैसी कोई बात होगी तो हम आपके साथ हैं।

अजय मिश्रा के इस बयान को एक तरह से गिरफ्तारी की स्थिति में सरकार के लिए चेतावनी के तौर पर देखा जा रहा है। कार्यालय पर मौजूद समर्थकों ने कहा कि आशीष भैया दंगल में थे। घटनास्थल पर किसानों के रूप में आतंकवादी थे।

सिद्धू ने तोड़ा मौन व्रत
इधर, पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष नवजोत सिद्धू ने अपना मौन व्रत तोड़ दिया है। सिद्धू शुक्रवार को लखीमपुर पहुंचे थे। सिद्धू पहले हिंसा में मारे गए किसान लवप्रीत और फिर पत्रकार रमन के यहां पहुंचे। उन्होंने लिखकर कहा था कि जब तक केंद्रीय मंत्री का आरोपी बेटा गिरफ्तार नहीं कर लिया जाता, तब तक मौन धारण कर भूख हड़ताल पर बैठे रहेंगे। सिद्धू करीब 20 घंटे से मौन व्रत पर थे।

LIVE अपडेटस…

  • आशीष 12 से ज्यादा पेन ड्राइव लेकर पहुंचे थे। सूत्र बताते हैं कि पेन ड्राइव में वह सभी वीडियो हैं जो उनकी मौजूदगी साबित करेंगे की घटना के वक्त वह कहां मौजूद थे?
  • आशीष से पूछताछ के लिए करीब 40 सवालों की लंबी फेहरिस्त बनाई गई। उससे पूछा गया कि वह हिंसा के वक्त कहां था?
  • लखीमपुर में पुलिस लाइन के सामने भारी भीड़ रही। इसे देखते हुए SP ने कहा कि समय-समय पर अपडेट दिया जाएगा। भीड़ न लगाएं।
  • आशीष के कानूनी सलाहकार अवधेश कुमार ने कहा था कि हम नोटिस का सम्मान करेंगे और जांच में सहयोग करेंगे।
  • मंत्री अजय मिश्र लखीमपुर में अपने कार्यालय पर ही रहे। उनके कार्यालय पर काफी गहमागहमी रही।

आशीष मिश्र की गिरफ्तारी तय थी
आशीष मिश्र से पूछताछ के बाद उनकी गिरफ्तारी तय मानी जा रही थी। स्थानीय लोगों का दावा है कि जिस थार जीप ने किसानों को कुचला था, उसके पीछे निकली फॉर्च्यूनर में आशीष मिश्र बैठे थे। माना जा रहा है कि यह सबूत सामने आने पर आशीष की मुश्किलें बढ़ सकती हैं।

इससे पहले लखीमपुर पुलिस ने शुक्रवार को मंत्री के घर पर दोबारा नोटिस चिपकाकर कर आशीष को शनिवार सुबह 11 बजे पूछताछ के लिए बुलाया था। इससे पहले पुलिस ने गुरुवार को नोटिस लगाकर शुक्रवार को 10 बजे पेश होने के लिए कहा था, लेकिन आशीष नहीं पहुंचा। बाद में आशीष ने एक चिट्‌ठी लिखकर बताया था कि वह बीमार है इसलिए 9 अक्टूबर को पुलिस के सामने पेश होगा।

पुलिस लाइन में बैरिकेडिंग की गई। मीडिया को भी दूर कर दिया गया।

पुलिस लाइन में बैरिकेडिंग की गई। मीडिया को भी दूर कर दिया गया।

बड़े नेता के इशारे पर हुई आशीष की पेशी
गुरुवार को केंद्रीय मंत्री अजय मिश्र दिल्ली में थे। सूत्रों का कहना है कि आशीष को पुलिस के सामने पेश होने के लिए अजय मिश्र के पास किसी बड़े नेता ने संदेश भेजा था। इसके बाद वे लखनऊ के लिए रवाना हुए और कहा कि आशीष शनिवार को पुलिस के सामने सामने पेश हो जाएंगे और जांच में सहयोग करेंगे। केंद्रीय मंत्री का ये बयान सुप्रीम कोर्ट की सख्ती के बाद सामने आया है, क्योंकि इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने UP सरकार को फटकार लगाई है।

लखीमपुर हिंसा में मारे गए किसान लवप्रीत के घर में हिंसा का वीडियो देखते हुए नवजोत

लखीमपुर हिंसा में मारे गए किसान लवप्रीत के घर में हिंसा का वीडियो देखते हुए नवजोत

लखीमपुर में तीसरी बार बंद हुई इंटरनेट सेवाएं
लखीमपुर में 3 अक्टूबर को हिंसा के बाद पहली बार इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई थीं। इसके बाद 5 अक्टूबर को लखीमपुर खीरी, सीतापुर और बहराइच में इंटरनेट सेवाएं बंद की गईं। अब 8 अक्टूबर की शाम से लखीमपुर में इंटरनेट फिर से बंद कर दिया गया है।

शुक्रवार को दिन भर क्या-क्या हुआ?

  • मंत्री अजय मिश्र लखनऊ पहुंचे। उन्होंने बेटे आशीष का बचाव किया। कहा, “मेरा बेटा कहीं भागा नहीं है, वह निर्दोष है।” इसके अलावा इस्तीफे की मांग को लेकर अजय मिश्र ने कहा कि विपक्ष का काम ही है इस्तीफा मांगना।
  • अजय मिश्र शुक्रवार को लखनऊ में सांसद-विधायकों और संगठन की मीटिंग में शामिल हुए। उधर, राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग ने UP सरकार को नोटिस जारी कर लखीमपुर हिंसा की पूरी रिपोर्ट मांगी है।
  • सुप्रीम कोर्ट ने UP सरकार से पूछा कि जब मामला 302 (हत्या) का है तो गिरफ्तारी अब तक क्यों नहीं हुई? सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि वह जांच के लिए UP सरकार द्वारा उठाए गए कदमों से संतुष्ट नहीं है।
  • आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह बहराइच गए। उन्होंने 2 पीड़ित परिवारों से मुलाकात के बाद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से उनकी बात करवाई। केजरीवाल ने कहा कि आरोपी अब तक गिरफ्तार नहीं हुए हैं, पूरा देश देख रहा है। लोगों में बहुत गुस्सा है।
  • सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बहराइच में दो पीड़ित परिवारों से मुलाकात की। उन्होंने केंद्रीय मंत्री अजय मिश्र का इस्तीफा और उनके बेटे की गिरफ्तारी की मांग उठाई।

Leave a Reply