25.6 C
Miami
Thursday, October 21, 2021
HomeLanguageहिंदीलखीमपुर खीरी हिंसा केस: सुप्रीम कोर्ट की UP सरकार को फटकार; पूछा-...

लखीमपुर खीरी हिंसा केस: सुप्रीम कोर्ट की UP सरकार को फटकार; पूछा- हत्या के आरोपी की गिरफ्तारी क्यों नहीं, ऐसा करके आप क्या मैसेज देना चाहते हैं?


  • Hindi News
  • National
  • Lakhimpur Khiri Case Hearing In Supreme Court UP Government To File Status Report

नई दिल्ली19 घंटे पहले

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी हिंसा मामले की सुप्रीम कोर्ट में आज फिर सुनवाई हुई। CJI की बेंच ने उत्तर प्रदेश सरकार की जांच पर नाखुशी जताते हुए कड़ी फटकार लगाई। कोर्ट ने UP सरकार के वकील हरीश साल्वे से पूछा कि हत्या का मामला दर्ज होने के बाद भी आरोपी की गिरफ्तारी क्यों नहीं की गई है? ऐसा करके आप क्या संदेश देना चाहते हैं?

कोर्ट के सवाल पर उत्तर प्रदेश सरकार के वकील हरीश साल्वे ने कहा कि इस मामले में आरोपी आशीष मिश्र कल 11 बजे तक पुलिस के सामने पेश हो जाएंगे। इसके बाद कोर्ट ने साल्व से पूछा- क्या आप देश में किसी भी दूसरे मर्डर केस के आरोपी को इसी तरह का ट्रीटमेंट देते। लखीमपुर खीरी में 3 अक्टूबर को हुई हिंसा में 4 किसानों समेत 8 लोगों की मौत के मामले में केंद्रीय गृहराज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी के बेटे आशीष मुख्य आरोपी हैं।

DGP को निर्देश- सबूतों से छेड़छाड़ न हो
मामले की सुनवाई के दौरान कोर्ट ने साफ कहा कि वह लखीमपुर खीरी मामले की जांच के लिए उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से अब तक लिए गए स्टेप्स से संतुष्ट नहीं है। साथ ही कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार कोर्ट यह बताए कि कौन सी एजेंसी इस मामले की जांच कर सकती है। कोर्ट ने राज्य के DGP को भी निर्देश दिए कि नई एजेंसी की जांच शुरू होने तक सबूतों से छेड़छाड़ न हो, इस बात का ध्यान रखा जाए।

सुप्रीम कोर्ट ने खुद नोटिस लिया था
इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने दो वकीलों की चिट्ठियों को नोटिस में लेते हुए गुरुवार को UP सरकार से पूछा कि इस घटना में कितने किसान मारे गए? कितने राजनीतिक लोगों और पत्रकारों की मौत हुई? किन लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया और किन-किन लोगों की गिरफ्तारी हुई? UP सरकार ने आज कोर्ट में इन सवालों के जवाब दिए। मामले की अगली सुनवाई दुर्गा पूजा के बाद होगी।

लखीमपुर खीरी में 3 अक्टूबर को किसान आंदोलन के दौरान हिंसा में 8 लोगों की मौत हुई थी। मंत्री अजय मिश्र के बेटे आशीष पर इस मामले में हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया है।

कोर्ट की सख्ती के बाद आशीष पर दबाव बढ़ा
अब सुप्रीम कोर्ट की सख्ती के बाद उनकी गिरफ्तारी का दबाव बढ़ गया है। UP पुलिस ने गुरुवार शाम आशीष के घर नोटिस चिपका कर शुक्रवार को पूछताछ के लिए पेश होने को कहा है। इससे पहले पुलिस ने दो आरोपियों लवकुश और आशीष पांडेय को गिरफ्तार कर लिया, वहीं, तीन लोगों से पूछताछ की जा रही है।

इधर, लखनऊ IG लक्ष्मी सिंह ने कहा कि आशीष मिश्र कहां हैं, ये पता नहीं है। वहीं, आशीष पांडेय और लवकुश पर आरोप है कि वे किसानों को टक्कर मारने वाली थार जीप के पीछे चल रही गाड़ी में थे। दूसरी ओर, UP सरकार ने इस मामले में हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज प्रदीप श्रीवास्तव की अध्यक्षता में जांच आयोग बनाया है।

आशीष ने पुलिस को लिखी चिट्ठी, उसके नेपाल भागने का शक
इधर मंत्री के बेटे आशीष ने पुलिस को चिट्ठी लिखकर कहा है कि उनका स्वास्थ्य ठीक नहीं है, इसलिए वे आज पुलिस के सामने पेश नहीं हो सकते। वे शनिवार को 11 बजे पुलिस के सामने पेश होंगे। इस बीच, सूत्रों का कहना है कि आशीष अपने दोस्त अंकित दास के साथ नेपाल फरार हो चुका है। अंकित दास पूर्व कांग्रेसी नेता अखिलेश दास का भतीजा है। पुलिस दोनों की तलाश में जुटी है। पुलिस की जांच में पहली लोकेशन नेपाल थी, जबकि आज सुबह की लोकेशन उत्तराखंड के बाजपुरा की बताई जा रही है।


RELATED ARTICLES

Leave a Reply

- Advertisment -

You May Like

%d bloggers like this: