वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, वॉशिंगटन
Published by: Amit Mandal
Updated Sat, 12 Jun 2021 12:25 AM IST

सार

18 साल की लड़की को 2020 में मिनेपोलिस में जॉर्ज फ्लोएड की हत्या के वीडियो को फिल्माने के लिए पुरस्कार दिया गया। एक पुलिसकर्मी ने जॉर्ज की हत्या कर दी थी जिसके बाद अमेरिका के कई शहरों में दंगे भड़क उठे थे।  

जॉर्ज फ्लोएड (सांकेतिक फोटो)
– फोटो : social media

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

पुलित्जर प्राइज बोर्ड ने एक युवा लड़की को अमेरिका में जॉर्ज फ्लोएड की हत्या का वीडियो बनाने के लिए खास तौर पर जिक्र करते हुए सम्मानित किया है। 2020 में जॉर्ज फ्लोएड की पुलिसकर्मी ने हत्या कर दी थी जिसके बाद अमेरिका के कई शहरों में दंगे भड़क उठे थे। 

2021 के प्रतिष्ठित पुलित्जर पुरस्कार समारोह में 18 साल के डार्नेला फ्रेजियर को खास तौर पर मिनेपोलिस के पुलिस अधिकारी द्वारा जॉर्ज की हत्या की घटना का वीडियो बनाने के लिए सम्मानित किया गया।   

फ्रेजियर का जिक्र करते हुए कहा गया है- डार्नेला फ्रेजियर ने जॉर्ज फ्लोएड की हत्या का वीडियो बनाने का साहसिक कार्य किया है। इस वीडियो के दुनिया के सामने आने के बाद पुलिस की क्रूरता का लोगों को पता चला। साथ ही सच को सामने लाने के लिए सिटीजन जर्नलिस्ट की अहम भूमिका का महत्व भी समझ में आया। 

इसके साथ ही मिनेपोलिस के स्टार ट्रिब्यून को इस घटना के शानदार कवरेज के लिए पुरस्कार से नवाजा गया जिसने लगातार ब्रेकिंग न्यूज श्रेणी के तहत इस समाचार को बढ़िया तरीके से पेश किया। 
       
इसके अलावा न्यू यॉर्क टाइम्स को कोरोना वायरस महामारी के कवरेज के लिए पब्लिक सर्विस अवॉर्ड दिया गया।  अंतरराष्ट्रीय रिपोर्टिंग श्रेणी में ऑनलाइन पोर्टल बजफीड को पहला पुलित्जर पुरस्कार मिला। 

विस्तार

पुलित्जर प्राइज बोर्ड ने एक युवा लड़की को अमेरिका में जॉर्ज फ्लोएड की हत्या का वीडियो बनाने के लिए खास तौर पर जिक्र करते हुए सम्मानित किया है। 2020 में जॉर्ज फ्लोएड की पुलिसकर्मी ने हत्या कर दी थी जिसके बाद अमेरिका के कई शहरों में दंगे भड़क उठे थे। 

2021 के प्रतिष्ठित पुलित्जर पुरस्कार समारोह में 18 साल के डार्नेला फ्रेजियर को खास तौर पर मिनेपोलिस के पुलिस अधिकारी द्वारा जॉर्ज की हत्या की घटना का वीडियो बनाने के लिए सम्मानित किया गया।   

फ्रेजियर का जिक्र करते हुए कहा गया है- डार्नेला फ्रेजियर ने जॉर्ज फ्लोएड की हत्या का वीडियो बनाने का साहसिक कार्य किया है। इस वीडियो के दुनिया के सामने आने के बाद पुलिस की क्रूरता का लोगों को पता चला। साथ ही सच को सामने लाने के लिए सिटीजन जर्नलिस्ट की अहम भूमिका का महत्व भी समझ में आया। 

इसके साथ ही मिनेपोलिस के स्टार ट्रिब्यून को इस घटना के शानदार कवरेज के लिए पुरस्कार से नवाजा गया जिसने लगातार ब्रेकिंग न्यूज श्रेणी के तहत इस समाचार को बढ़िया तरीके से पेश किया। 

       

इसके अलावा न्यू यॉर्क टाइम्स को कोरोना वायरस महामारी के कवरेज के लिए पब्लिक सर्विस अवॉर्ड दिया गया।  अंतरराष्ट्रीय रिपोर्टिंग श्रेणी में ऑनलाइन पोर्टल बजफीड को पहला पुलित्जर पुरस्कार मिला। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here