क्या आप किसी ऐसे फिल्म निर्देशक का नाम जानते हैं जिसने ये जिद की हो कि हिंदी सिनेमा में वह कदम रखेगा तो तभी रखेगा जब फिल्म के हीरो अमिताभ बच्चन हों और यही नहीं अपनी ये जिद उसने पूरी भी की हो। इस निर्देशक का नाम है के भाग्यराज। भाग्यराज ने अपनी पहली हिंदी फिल्म अमिताभ बच्चन के साथ बनाई और हादसा उनकेसाथ ये हुआ कि बतौर निर्देशक अपनी पहली ही फिल्म में उनका अमिताभ बच्चन से पंगा भी हो गया। इसके बाद क्या हुआ, ये बताने से पहले आपको बता देते हैं उस फिल्म के बारे में जिसके जरिये भाग्यराज को हिंदी सिनेमा में कदम रखने का पहला मौका मिल सकता था लेकिन जिसमें काम करने से अमिताभ के इंकार करने पर भाग्यराज ने भी उस फिल्म से अपना नाम वापस ले लिया।

भाग्यराज का ‘अनोखा भाग्य’

ये फिल्म थी ‘मास्टरजी’। इसके निर्देशक के तौर पर पहला नाम भाग्यराज का ही आया। इस फिल्म से पहले के भाग्यराज की फिल्म ‘मौना गीतांगल’ की रीमेक के तौर पर बनी जीतेंद्र और रेखा की फिल्म ‘एक ही भूल’ सुपरहिट हो चुकी थी। भाग्यराज को फिल्म मास्टरजी निर्देशित करने का जब मौका मिला तो उन्होंने इसमें हीरो के तौर पर अमिताभ बच्चन को लेने की कोशिश की। अमिताभ बच्चन ने ये कहानी सुनी पर बात बनी नहीं। के भाग्यराज भी जिद के पक्के इंसान ठहरे। उनका कहना था कि वह हिंदी में फिल्म जब भी बनाएंगे तो पहली फिल्म अमिताभ बच्चन के साथ ही बनाएंगे। दोनों की जोड़ी मास्टरजी में तो नहीं बन सकी लेकिन के भाग्यराज को जल्दी ही ये मौका मिला फिल्म ‘आखिरी रास्ता’ में।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here