• Hindi News
  • National
  • China Coronavirus Outbreak Updates | India Japan South Korea USA UK COVID Active Cases Latest Update

6 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

भारत में बनी इंट्रानेजल कोविड-19 वैक्सीन का नाम iNCOVACC है।

दुनियाभर में कोरोना एक बार फिर पैर पसार रहा है। इस बीच चीन की हेल्थ एजेंसी ने चौंकाने वाला खुलासा किया है। आंकड़ों के मुताबिक, चीन में 22 दिसंबर को कोरोना का पीक आ चुका है। इस दौरान 70 लाख से ज्यादा लोग वायरस की चपेट में आए। वहीं मौतों का पीक 4 जनवरी को आया, जिसमें 4 हजार मरीजों ने अपनी जान गंवाई। प्रतिबंध खत्म होने के बाद एक महीने में ही 60 हजार लोगों की मौत हो चुकी है।

इधर, भारत में आज स्वदेशी फार्मा कंपनी भारत बायोटेक दुनिया की पहली इंट्रानेजल कोविड-19 वैक्सीन लॉन्च करेगी। इसका नाम iNCOVACC है। कंपनी ने दिसंबर में घोषणा की थी कि वह इंट्रानेजल वैक्सीन को सरकार द्वारा खरीद के लिए 325 रुपए प्रति शॉट और निजी वैक्सीन सेंटर्स के लिए 800 रुपए प्रति शॉट के हिसाब से बेचेगी।

पहले जानिए भारत में क्या है कोरोना की स्थिति…

देश में बुधवार को 88 नए मामले सामने आए। वहीं एक मरीज की मौत हो गई। हेल्थ मिनिस्ट्री के आंकड़ों के मुताबिक, देश में अभी 1,934 एक्टिव केस हैं। महामारी की शुरुआत से अब तक देश में 5 लाख से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। साथ ही 4 करोड़ से ज्यादा लोग वायरस से संक्रमित हो चुके हैं।

अब जानिए दुनिया में कोरोना की स्थिति…

चीन: जीरो-कोविड पॉलिसी खत्म होने के बाद 60 हजार मौतें

  • चीन ने दिसंबर 2022 के बीच में अपनी जीरो-कोविड पॉलिसी खत्म कर दी थी। इसका मतलब कि महामारी की शुरुआत से लगाए गए सारे प्रतिबंध खत्म कर दिए गए थे। अब सरकार का कहना है कि 12 जनवरी तक 60 हजार लोगों की कोरोना से मौत हुई है। हालांकि एक्सपर्ट्स का मानना है कि असली आंकड़ा इससे भी ज्यादा हो सकता है।
  • इससे पहले चीन की ही सरकार ने अनुमान लगाया था कि कोरोना प्रतिबंध खत्म होने के बाद देश में संक्रमण की दर तेजी से बढ़ी। सिर्फ 3 हफ्ते में ही 25 करोड़ चीनियों को वायरस ने अपनी चपेट में लिया था।
  • हांग कांग यूनिवर्सिटी की एक रिसर्च के मुताबिक, चीन की राजधानी बीजिंग की 92% आबादी जनवरी के आखिर तक कोरोना से संक्रमित हो जाएगी। यहां की जनसंख्या 2 करोड़ 20 लाख है। बीजिंग समेत चीन के कई बड़े शहरों में कई बार कोरोना का पीक आ सकता है। यह लूनर न्यू ईयर के दौरान बड़ी संख्या में हो रही आवाजाही के कारण हो रहा है।
लूनर न्यू ईयर के जश्न के चलते चीन में कोरोना केसेस और बढ़ने की आशंका है।

लूनर न्यू ईयर के जश्न के चलते चीन में कोरोना केसेस और बढ़ने की आशंका है।

जापान: कोरोना को फ्लू की कैटेगरी में लाने पर विचार
जापान में बुधवार को 79 हजार नए कोरोना मामले रिकॉर्ड किए गए। इसी बीच जापान के प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा कोविड-19 को फ्लू की कैटेगरी में लाने पर विचार कर रहे हैं। देश में कोरोना मरीजों की संख्या इतनी ज्यादा हो गई है कि उसका स्टेटस टीबी और फ्लू की बीमारी जैसा हो गया है। अधिकारी कोरोना को 5वें नंबर पर रखने पर विचार कर रहे हैं। किशिदा का कहना है कि इससे जनता कोरोना को नॉर्मल मानेगी और वायरस के साथ जीना सीखेगी।

ब्रिटेन: फिर से बूस्टर डोज लगाने की तैयारी
ब्रिटेन में लोगों को एक्स्ट्रा बूस्टर डोज लगाने की तैयारी की जा रही है। यह उन लोगों के लिए होगा जो बुजुर्ग हैं, गंभीर बीमारियों से पीड़ित हैं या जिनकी इम्यूनिटी बेहद कमजोर है। यहां भी कोरोना केसेस बढ़ रहे हैं। इंग्लैंड में एक हफ्ते में 15 हजार से ज्यादा मामले सामने आए हैं।

ब्रिटेन में गंभीर बीमारियों से पीड़ित लोगों को एक्स्ट्रा बूस्टर डोज लगाने की तैयारी की जा रही है।

ब्रिटेन में गंभीर बीमारियों से पीड़ित लोगों को एक्स्ट्रा बूस्टर डोज लगाने की तैयारी की जा रही है।

अमेरिका: कोरोना से मौतों का आधिकारिक आंकड़ा सही नहीं
बोस्टन यूनिवर्सिटी, मिनेसोटा यूनिवर्सिटी और कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों के अनुसार, अमेरिका में कोरोना से होने वाली मौतों को सही तरीके से नहीं गिना जा रहा है। आधिकारिक तौर पर जो आंकड़ा पेश किया जा रहा है, वह असली संख्या से कम है। मार्च 2020 से फरवरी 2022 तक लगभग 9 लाख 96 हजार से 12 लाख 78 हजार एक्सेस डेथ हुई हैं। इनमें से केवल 8 लाख 66 हजार को ही कोरोना से हुई मौतें माना गया था।

दुनिया में 67 करोड़ से ज्यादा मामले
कोरोना worldometer के मुताबिक, दुनिया में अब तक 67 करोड़ 38 लाख 47 हजार 652 मामले सामने आ चुके हैं। 11 जनवरी 2020 को चीन के वुहान में 61 साल के बुजुर्ग की मौत हुई थी। ये दुनिया में कोरोना से होने वाली पहली मौत थी। इसके बाद मौत का सिलसिला बढ़ने लगा। अब तक 67 लाख 50 हजार 261 मौतें हो चुकी हैं।

कोरोना से जुड़ी ये खबरें भी पढ़ें…

चीन ने क्यों छिपाया कोरोना के 174 केस का डेटा: WHO और US सीनेट को शक…वुहान लैब से तो लीक नहीं हुआ कोरोना

क्या चीन में कोरोना बाकी दुनिया से अलग है? क्यों हर बार कोरोना का नाम आते ही चीन का नाम अपने आप सामने आ जाता है? क्या चीन पूरी दुनिया से कुछ छिपा रहा है? अमेरिकी सीनेट कमेटी की रिपोर्ट कहती है…हां। पूरी खबर पढ़ें…

क्या कोरोना में चीन की सख्ती सिर्फ दिखावा थी; 5 दावों की पड़ताल ताकि आज उसकी बदहाली की वजह मिले

चीन में संक्रमण के हालात 2020 की याद दिला रहे हैं। तब से अब तक शी जिनपिंग सरकार ने इससे निपटने के लिए सख्त नियम लागू किए। जीरो कोविड पॉलिसी लाई गई। बेहद सख्त लॉकडाउन लगते रहे। तमाम दावों और वादों के बावजूद कोरोना कंट्रोल नहीं किया जा सका। पूरी खबर पढ़ें…

खबरें और भी हैं…



Source link

Leave a Reply