19 मई 2024 यानी रविवार का दिन। ईरान के राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी बेल-212 हेलिकॉप्टर में सवार होकर तबरेज शहर की ओर आ रहे थे। उनके साथ विदेश मंत्री समेत 9 लोग थे। मौसम खराब था।

.

शाम करीब 7 बजे वरजेघन की पहाड़ियों के पास अचानक उनका हेलिकॉप्टर लापता हो गया। जबकि रईसी के काफिले में शामिल अन्य दो हेलिकॉप्टर सही सलामत मंजिल तक पहुंच गए। तमाम खोजबीन के बीच सोमवार सुबह हेलिकॉप्टर का मलबा नजर आया। कोई जीवित नहीं बचा था। हेलिकॉप्टर क्रैश होने की वजह अब तक साफ नहीं है।

एयर ट्रांसपोर्ट की सुरक्षा के मामले में ईरान का रिकॉर्ड बेहद खराब रहा है। इससे पहले ईरान के रक्षा मंत्री, यातायात मंत्री के अलावा ईरान की थल और वायु सेना के कमांडर भी प्लेन या हेलिकॉप्टर क्रैश में मारे जा चुके हैं। सोशल मीडिया पर कुछ लोग इस हादसे के पीछे किसी साजिश का भी इशारा कर रहे हैं।

भास्कर एक्सप्लेनर में जानेंगे ईरानी राष्ट्रपति की मौत हादसा है या किसी साजिश की सुगबुगाहट, ईरान के हवाई बेड़े को दुनिया के सबसे असुरक्षित हवाई बेड़ों में क्यों शुमार किया जाता है…

आखिरी वक्त में इमरजेंसी ‘मेडे कॉल’ नहीं, टेल रोटर फेल होने की आशंका

राष्ट्रपति रईसी जिस हेलिकॉप्टर में सवार थे, उसके पायलट ने आखिरी वक्त में कोई इमरजेंसी कम्युनिकेशन नहीं किया। एविएशन एनालिस्ट काइल बेली ने अल जजीरा को बताया कि इमरजेंसी में पायलट का एयर ट्रैफिक कंट्रोलर से कम्युनिकेट न कर पाना, इशारा करता है कि हेलिकॉप्टर में सीरियस कंट्रोलेबिलिटी इश्यू थे।

दरअसल, इमरजेंसी सिचुएशन में एयरक्राफ्ट का पायलट एयर ट्रैफिक कंट्रोलर को इसके बारे में बताता है। जबकि रविवार को हुए हादसे में पायलट ने ऐसा कुछ नहीं किया था।

बेली कहते हैं कि अगर किसी एयरक्राफ्ट में उड़ान के दौरान कोई गंभीर तकनीकी समस्या आती है तो पायलट का पहला काम एयरक्राफ्ट को कंट्रोल में रखना और दूसरा स्थिति की जानकारी कम्युनिकेट करना होता है। वहां इस मामले में कोई कम्युनिकेशन नहीं हुआ। इसका मतलब है शायद पायलट हेलिकॉप्टर को कंट्रोल करने में ही उलझा हुआ था।

उन्होंने आशंका जताई कि हेलिकॉप्टर का टेल रोटर (पूंछ पर लगा पंखा) शायद कट गया था, जिससे मेन रोटर ब्लेड (हेलिकॉप्टर का मेन पंखा) पर प्रभाव पड़ा। ये एयरोडायनमिक फोर्सेज तब बनी होंगी जब पायलट लैंडिंग का प्रयास कर रहा होगा या कोई तकनीकी खराबी आई होगी।

उन्होंने कहा- आशंका यह भी है कि टेल रोटर फेल हो गया और नियंत्रण से बाहर हो गया। खराब मौसम और पहाड़ी इलाके भी इस घातक दुर्घटना की वजह हो सकते हैं।

राष्ट्रपति को एस्कॉर्ट कर रहे दो अन्य हेलिकॉप्टर सुरक्षित मंजिल तक पहुंच गए। इससे भी कुछ लोग दबी जुबान में किसी साजिश की आशंका जता रहे हैं। हालांकि अब तक आधिकारिक से रूप से ऐसा कोई संकेत नहीं मिला है।

यूक्रेन-ईरान के संघर्ष के बीच पैसेंजर प्लेन को निशाना बनाने का इतिहास

यूक्रेन और ईरान के जियोपॉलिटिकल कॉन्फ्लिक्ट की वजह से पैसेंजर प्लेन को मार गिराने का लंबा इतिहास रहा है। एविएशन सेफ्टी एक्सपर्ट और प्रोफेसर अर्नोल्ड बार्नेट का कहना है कि पैसेंजर विमानों के साथ दुर्घटना होना सामान्य नहीं है। मुझे लगता है कि आजकल युद्ध में अक्सर हवाई लड़ाई शामिल होती है। ऐसे में प्लेन्स काे सावधान रहना चाहिए।

ईरान में लड़ाई के दौरान निशाने पर आ चुका सिविल एविएशन

3 जुलाई 1988 को एक अमेरिकी जहाज ने ईरान एयर फ्लाइट 655 को मार गिराया था, तब 290 लोग मारे गए थे। दरअसल, ईरान-इराक युद्ध के दौरान अमेरिका और ईरान के बीच ‘ऑपरेशन प्रेइंग मेंटिस’ नाम से एक नौसैनिक युद्ध हुआ था। युद्ध फारस की खाड़ी में हुआ था और एक दिन चला था।

इसमें अमेरिकी नौसेना की मिसाइल क्रूजर यूएसएस विंसेनेस ने ईरान के बंदर-ए-अब्बास से दुबई जा रहे ईरान एयर फ्लाइट 655 को मार गिराया। विमान फारस की खाड़ी और ओमान की खाड़ी के बीच होर्मुज से गुजर रहा था। इसमें सवार सभी 290 लोग मारे गए थे।

ईरानएयर फ्लाइट 655 का मलबा समुद्र से मिलने के बाद बंदर अब्बास के पोर्ट पर पड़ा हुआ। फोटो- तस्नीम न्यूज एजेंसी

ईरानएयर फ्लाइट 655 का मलबा समुद्र से मिलने के बाद बंदर अब्बास के पोर्ट पर पड़ा हुआ। फोटो- तस्नीम न्यूज एजेंसी

इस मामले में अमेरिका का कहना था कि उसकी नौसेना ने यात्री विमान को लड़ाकू जेट समझने की गलती कर दी थी। उसने यह भी दावा किया था कि प्लेन सिविलियन कॉरिडोर से बाहर था। जबकि बाद में यह दावा झूठा साबित हुआ। एसोसिएटेड प्रेस के अनुसार, बाद में अमेरिकी सरकार ने माफी मांगी और आठ साल बाद कहा कि वह पीड़ितों के परिवारों को मुआवजा देगी।

इसी तरह 8 जनवरी 2020 को यूक्रेन इंटरनेशनल एयरलाइंस की तेहरान से कीव के लिए फ्लाइट 752 (बोइंग 737 एयरक्राफ्ट) टेकऑफ के तीन मिनट बाद ही क्रैश हो गई। इस दुर्घटना में करीब 176 लोग मारे गए।

शुरुआत में ईरान ने इस पर कहा कि तकनीकी खराबी की वजह से हादसा हुआ है। ईरान में यूक्रेन के दूतावास ने माना कि विमान का इंजन फेल होने की वजह से हादसा हुआ है। हालांकि तीन दिन बाद ईरान ने खुद कुबूल किया कि यूक्रेन के प्लेन पर ईरानी वायुसेना ने दो मिसाइलें दागी थीं।

यूक्रेन इंटरनेशनल एयरलाइंस का बोइंग 737 ईरान में दुर्घटनाग्रस्त हुआ था। तेहरान के बाहरी इलाके में विमान का मलबा। फोटो- AFP

यूक्रेन इंटरनेशनल एयरलाइंस का बोइंग 737 ईरान में दुर्घटनाग्रस्त हुआ था। तेहरान के बाहरी इलाके में विमान का मलबा। फोटो- AFP

ईरान के इस्लामिक रिवोल्यूशनरी गार्ड कोर (IRGC) के एयरोस्पेस कमांडर आमिर अली हाजीजादेह ने कहा कि हमने इस विमान को अमेरिकी क्रूज मिसाइल समझने की गलती कर दी थी। दरअसल, ईरानी जनरल कासिम सुलेमानी की हत्या के बाद अमेरिका के साथ बढ़ते तनाव के बीच IRGC ने तेहरान से उड़ान भरने के तुरंत बाद ही विमान को मार गिराया था। बाद में इसके खिलाफ कनाडा, स्वीडन, यूनाइटेड किंगडम और यूक्रेन ने यूनाइटेड नेशनल सिविल एविएशन एजेंसी में शिकायत दर्ज कराई थी।

55 साल पुरानी टेक्नोलॉजी वाले बेल-212 हेलिकॉप्टर में सवार थे राष्ट्रपति रईसी

ईरान के राष्ट्रपति और विदेश मंत्री को ले जा रहे बेल-212 हेलिकॉप्टर की टेक्नोलॉजी करीब 55 साल पुरानी है। फ्लाइट ग्लोबल की वर्ल्ड एयरफोर्स डायरेक्ट्री-2024 के अनुसार, ईरान की एयरफोर्स और नेवी में 10 बेल-212 हेलिकॉप्टर हैं।

इसे अमेरिकी कंपनी ‘बेल हेलिकॉप्टर’ (अब बेल टेक्सट्रॉन) ने 1960 के दशक के अंत में UH-1 Iroquois के अपग्रेडेड वर्जन के रूप में कनाडाई सेना के लिए डेवलप किया था। नई डिजाइन में एक के बजाय दो टर्बोशाफ्ट इंजन थे। अमेरिका के मिलिट्री ट्रेनिंग दस्तावेजों के अनुसार, 1971 में पेश इस हेलिकॉप्टर को अमेरिका और कनाडा ने तुरंत ही अपना लिया था।

बेल-212 सिविल एविएशन (नागरिक उड़ान), माल ढोने, आग बुझाने के साथ ही हथियारों से लैस होने में भी सक्षम है। इसका एडवांस वर्जन पुलिस और मिलिट्री उपयोग, मेडिकल ट्रांसपोर्ट में भी सक्षम है। यूरोपियन यूनियन एविएशन सेफ्टी एजेंसी के अनुसार यह पायलट सहित 15 लोगों को ले जा सकता है। कई देशों की सरकारों सहित प्राइवेट एजेंसियां भी इसका प्रयोग करती हैं। इनमें जापानी कोस्ट गार्ड, अमेरिका में लॉ एनफोर्समेंट एजेंसियां ​​और अग्निशमन विभाग और थाईलैंड पुलिस शामिल हैं।

ईरानी विमानों में उड़ान भरना बेहद खतरनाक क्यों?

  • ईरानएयर के बेड़े में ज्यादातर विमान दशकों पुराने हैं। वर्तमान बेड़े में ज्यादातर विमान औसतन 20 साल या उससे ज्यादा समय से उड़ान भर रहे हैं। ATR, A330 और A320 फैमिली के विमानों को छोड़कर अधिकतर विमान कई वर्षों से ऑपरेट हो रहे हैं।
  • ईरान वायर की रिपोर्ट के अनुसार, ईरान की एयरलाइंस के विमानों की औसत आयु 28 साल है। इस वजह से ईरान का एविएशन (हवाई) बेड़ा दुनिया में सबसे खतरनाक और असुरक्षित माना जाता है। ईरानी कंपनियों के पास 335 विमान हैं। खराब स्थिति के कारण इनमें से आधे विमानों का संचालन नहीं हो पा रहा है।
  • 2022 में एसोसिएशन ऑफ ईरानी एयरलाइंस के सचिव ने बताया था कि देश में 21 एयरलाइंस ऑपरेट हो रही हैं। ईरान के सिविल एविएशन ऑर्गेनाइजेशन के प्रमुख के अनुसार, कुल 171 ईरानी विमान ही एक्टिव हैं, जो 8.5 करोड़ की आबादी को सेवाएं दे रहे हैं।
  • 2022 में सीएच-एविएशन के अनुसार, एयरबस A300B4 (EP-IBG) ईरान एयर के साथ उड़ान भरने वाला सबसे पुराना एक्टिव एयरप्लेन है। यह करीब 37 साल पुराना है। दिसंबर 2021 तक प्लेन ने 23,550 फ्लाइट सर्कल में 68,187 घंटे पूरे किए हैं।
  • दूसरा सबसे पुराना विमान बोइंग 747-200C (M) (EP-ICD) है, जो 33.5 साल पुराना है। यह कार्गो विमान 1988 में मार्टिनएयर के पास था और 20 साल बाद 2008 में ईरानएयर को सौंप दिया गया। वहीं उड़ान भरने वाले सबसे पुराने विमानों में 28 और 30 साल पुराने दो A300 एयरप्लेन (EP-IBA और EP-IBC) भी हैं। 30 साल पुराने होने के बाद भी एयरबस A310 (EP-IBK) एयरलाइन के लिए एक्टिव ड्यूटी पर तैनात है।
  • ईरानएयर, देश और मिडिल ईस्ट की सबसे पुरानी एयरलाइनों में से एक है। इसके पास अभी 30 विमान लिस्टेड हैं। कतर एयरवेज के बेड़े से तुलना करें तो उसके पास 209 विमान हैं, जिनकी औसत आयु 5 से 8.5 साल के बीच है।
  • इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट फॉर स्ट्रैटजिक स्टडीज इन लंदन (IISS) के अनुसार ईरान के पास कुछ ही एक्टिव स्ट्राइक एयरक्राफ्ट हैं और वे भी 1979 में हुई ईरानी क्रांति से पहले के हैं। ऐसा ईरान पर लगे अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों की वजह से हुआ है। ईरान स्पेयर पार्ट्स नहीं खरीद पा रहा है, जिस कारण इन विमानों का मेंटेनेंस नहीं हो पाता है।
  • लंदन बेस्ड एविएशन एक्सपर्ट्स एलेक्स माचेरस का अनुमान है कि 1979 के बाद से लगभग 2,000 ईरानी लोग विमान दुर्घटनाओं में अपनी जान गंवा चुके हैं, जबकि एविएशन सेफ्टी नेटवर्क का अनुमान है कि पिछले 44 वर्षों में ईरानी एयरलाइंस से जुड़ी दुर्घटनाओं में 1,755 लोगों की जान गई है।

2015 में ईरान परमाणु समझौते के बाद स्थिति बदलने की उम्मीद जगी थी

1979 की क्रांति के बाद से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ईरान को अलग सा कर दिया गया। इसके बाद आर्थिक तौर पर कई प्रतिबंध लगाए गए, जिसका अर्थव्यवस्था पर बुरा असर पड़ा। शुरुआती दिनों में खास तौर पर ईरानी एविएशन को भारी नुकसान हुआ था। ईरान पश्चिमी और अन्य देशों से नए विमान नहीं खरीद पाया।

हालांकि 2015 में ज्वाइंट कंप्रिहेंसिव प्लान ऑफ एक्शन (जेसीपीओए), जिसे ईरान परमाणु समझौते के तौर के देखा जाता है। यह ईरानी एविएशन के लिए संजीवनी की तरह थी। ईरान जल्द ही अपने हवाई बेड़े का आधुनिकीकरण कर सकता है, क्योंकि उसने वादा किया था कि अगर अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंध हटा दिए गए तो वह अपने परमाणु कार्यक्रम को सीमित कर देगा। 1979 के बाद से यह पहला मौका था जब ईरान एविएशन में लगे प्रतिबंधों को हटाया जा सकता था। इस समझौते के बाद ईरान को बोइंग व एयरबस सहित अमेरिकी और यूरोपीय कंपनियों से सीधे विमान खरीदने की अनुमति मिल गई।

दरअसल, 2015 के परमाणु समझौते (JCPOA) ने पश्चिमी विमानों की खरीद पर प्रतिबंधों को खत्म कर दिया। इसके साथ ही ईरान ने बोइंग और एयरबस से नए विमान खरीदने के लिए बातचीत शुरू कर दी।

इन तमाम कॉन्ट्रैक्ट और डील के बाद कुछ एयरबस एयरक्राफ्ट ईरान के पास आए, लेकिन अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने 2018 में परमाणु समझौते को रद्द कर दिया, तो अमेरिकी प्रतिबंधों की धमकी के तहत इन सभी चार सौदों को रद्द कर दिया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here