• Hindi Information
  • Jeevan mantra
  • Jyotish
  • Solar Transit In Taurus The Inauspicious Yoga Created By Saturn Will Finish, Warmth Will Enhance With The Change Of Solar’s Zodiac Signal, Nautapa Will Begin From twenty fifth

2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

14 मई को सूर्य मेष राशि से निकलकर वृष में आ गया है। पिछले एक महीने से सूर्य अपनी उच्च राशि में था। अब 14 तारीख को सूर्य अपनी उच्च राशि छोड़कर वृष राशि में आ गया है। इस राशि में गुरु पहले से ही मौजूद है। अब सूर्य के इस राशि में आने से इसका शुभ असर बढ़ जाएगा। जिससे कुछ लोगों की नौकरी और बिजनेस में अचानक बदलाव हो सकते हैं।

वृष राशि में सूर्य के आने से बड़े प्रशासनिक फैसले हो सकते हैं। बैंकिंग सैक्टर से जुड़े लोगों के काम में बदलाव हो सकता है। सरकारी नौकरीपेशा लोगों के फाइनेंस संबंधी रुके काम शुरू हो सकते हैं। महंगाई बढ़ सकती है। प्रशासन और जनता के बीच तनाव और संघर्ष के हालात बन सकते हैं। बीमारियां बढ़ सकती हैं। पड़ोसी देशों के साथ तनाव हो सकता है। कुछ राज्यों में गर्मी बढ़ सकती है।

राशि बदलने से खत्म होगा सूर्य-शनि का अशुभ योग
14 अप्रैल से सूर्य पर शनि की वक्र दृष्टि पड़ रही है। जिससे विवाद और लोगों की उलझनें बढ़ी हुई थी। अब सूर्य राशि बदलकर शनि की टेढ़ी नजर से मुक्त हो जाएगा। जिससे प्रशासन और राजनीति में हो रहे विवादों में कमी आएगी। लोगों के कामकाज में आ रही रुकावटें भी दूर होंगी।

सूर्य के राशि बदलने से होगा ऋतु परिवर्तन
14 मई को सूर्य के वृष राशि में आने के बाद ऋतु भी बदल जाएगी। वैदिक ज्योतिष के मुताबिक जब सूर्य वृष राशि में आता है तो ग्रीष्म ऋतु की शुरुआत हो जाती है। इस वक्त सूर्य कृत्तिका नक्षत्र में होता है। जिससे धरती पर सूर्य की किरणें ज्यादा देर तक होती है। इस कारण धरती ज्यादा तपती है।

इस नक्षत्र और राशि में जब सूर्य रहता है तब ज्येष्ठ महीना होता है। इसके बाद 25 मई को सूर्य सूर्य रोहिणी नक्षत्र में आता है, तब नौ दिनों तक और ज्यादा गर्मी बढ़ाता है। जिसे नौतपा भी कहा जाता है। वृष संक्रांति से ही गर्मी का मौसम चरम पर रहता है, इसलिए इस दौरान अन्न और जल दान करने का विशेष महत्व है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here