नई दिल्ली8 घंटे पहलेलेखक: विक्रम अहिरवार

  • कॉपी लिंक

देश के कई राज्य इस वक्त तेज गर्मी की चपेट में हैं। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने दिल्ली, पंजाब, हरियाणा और राजस्थान में हीटवेव का रेड अलर्ट जारी किया है। उत्तर प्रदेश और बिहार में हीटवेव का ऑरेंज अलर्ट है। इसके अलावा उत्तराखंड, गुजरात, मध्यप्रदेश, पश्चिम बंगाल और झारखंड में भी लू चलने की संभावना है।

कई राज्यों में इस समय तापमान 47 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है। इतने टेंपरेचर में धूप में खड़ी एक कार के अंदर का टेंपरेचर 70 डिग्री तक पहुंच जाता है।

ऐसे मौसम में दिनभर धूप में कार रहने से कई तरह की प्रॉब्लम हो सकती है। इसका असर आपकी हेल्थ पर भी पड़ सकता है। इसलिए अपनी कार का ध्यान रखना बहुत जरूरी हो जाता है।

अब जानते हैं कि आप अपनी कार को गर्मी के मौसम में कैसे मेंटेन कर सकते हैं…

1. एयर कंडीशन की करा लें सर्विस
नई गाड़ियों की कूलिंग तो काफी अच्छी होती है, लेकिन जैसे-जैसे गाड़ियां पुरानी होती जाती हैं और उन पर ध्यान नहीं दिया जाता है तो कूलिंग भी घट जाती है। गर्मियों में कार में एयर कंडीशनर (AC) सबसे जरूरी होता है। अगर यह ठीक से काम नहीं कर रहा है तो यह आपके लिए परेशानी का सबब बन सकता है। इस तरह की कंडीशन में एयर कंडीशन की सर्विस कराना जरूरी हो जाता है।

2. गर्मी में इंजन को मेंटेन करें
गर्मी में गाड़ी का इंजन जल्दी गर्म हो जाता है। इंजन को गाड़ी का हार्ट (दिल) कहा जाता है और इसे गर्म होने से बचाने के लिए प्रॉपर मेनटेनेंस की जरूरत होती है। अगर कार में कूलेंट ठीक से काम नहीं कर रहा है और इंजन ऑइल कम या पुराना है तो यह इंजन के लिए खतरनाक साबित हो सकता है। ओवर हीट की वजह से इंजन के सीज होने का भी खतरा बना रहता है।

3. टायर प्रेशर मेंटेन करें
हीट कंडीशन में कई बार टायर फटने की घटना भी हो जाती हैं। इसलिए टायर समय-समय पर टायर प्रेशर को चेक करते रहना चाहिए कि कहीं ये कम या ज्यादा तो नहीं है। आजकल कई कारों में टायर प्रेशर मॉनीटरिंग सिस्टम (TPMS) भी दिया जा रहा है। इसके अलावा TPMS दो से तीन हजार रुपए की कीमत में कार एसेसरीज की शॉप्स और ऑनलाइन भी मिल जाते हैं।

कार के केबिन को ठंडा रखने के लिए कुछ गैजेट
देश में हर दिन हजारों कारों बिक्री होती, लेकिन छाव में कार पार्क करना तो दूर कई बार पार्किंग स्पेस ही नहीं मिलता। इसलिए ज्यादातर समय गाड़ियों को धूप में पार्क करना पड़ता है। इससे सनलाइट डायरेक्ट विनशील्ड और विंडो के जरिए कार में आती है और इससे डेशबोर्ड, सीट्स और पूरा केबिन ही गर्म हो जाता है।

यहां हम आपको कुछ ऐसे गैजेट बता रहे हैं जिनसे आप अपनी गाड़ी को ठंडा रख सकते हैं…

1. सोलर पावर फेन
ये फेन सोलर पावर से चलता हैं। इसे कार की किसी भी विंडो या विंडशील्ड पर लगा सकते हैं। कार को पार्क करने पर ये कैबिन के टेंपरेचर को बढ़ने नहीं देता है और हीट को बाहर निकालता रहता है। इस डिवाइस को आप ऑनलाइन या किसी कार एसेसरीज की शॉप से भी खरीद सकते हैं।

2. सनशेड
गर्मी में गाड़ी की विंडशील्ड और विंडो पर सनशेड लगाना चाहिए। अक्सर लोग विंडो के लिए तो सनशेड खरीद लेते हैं, लेकिन विंडशील्ड पर ध्यान नहीं देते। जबकि मेजर पोर्शन विंडशील्ड का ही होता है। गाड़ी पार्क करने पर ये सनशेड सनलाइट को केबिन में आने से रोक देते हैं और कार गर्म नहीं होती।

3. कार अंब्रेला
इस अंब्रेला को गाड़ी के टॉप पर लगा देते हैं। इससे कार छांव में खड़ी रहती है और गर्म नहीं होती। इस अंब्रेला को भारत में प्रैक्टिकली यूज करना नुकसान दायक हो सकता है, क्योंकि पब्लिक प्लेस पर लोग इस अंब्रेला को नुकसान पहुंचा सकते हैं। हालांकि, जब आप अपनी गाड़ी को किसी सिक्योर जगह पर पार्क करते हैं तो इस एसेसरीज को यूज कर सकते हैं।

4. वाटर कूलिंग कुशन कवर्स
कार को घर से बाहर कहीं पार्क करने के बाद जब वापस आते हैं, तो अक्सर सीट्स बहुत गर्म हो जाती हैं। खास तौर पर जब आपकी गाड़ी में लेदर सीट्स लगी हों। इससे बचने के लिए आपको मार्केट में वाटर कूलिंग कुशन कवर्स मिलते हैं। ऑनलाइन साइट्स पर ये आसानी से डेढ़ से दो हजार रुपए में मिल जाते हैं। इनका यूज करने से सीट कम गरम लगती हैं।

5. वेंटीलेटेड सीट्स
ये सीट्स कवर की तरह गाड़ी की सीट के ऊपर इलास्टिक बैंड के थ्रू लग जाती हैं। इस सीट के अंदर फेन लगा हुआ होता है और छोटे-छोटे पोट्स होते हैं, ताकि उनमें से हवा निकल सके। सीट के फेन को गाड़ी में दिए गए 12 वोल्ट के पावर सॉकिट से कनेक्ट हो जाती है।

गाड़ी का AC चालू होने के बाद भी खासतौर पर लॉन्ग ड्राइव्स में हमारी बैक और थाई में गर्मी लग रही होती है, लेकिन इन वेंटीलेटेड सीट्स की मदद से वहां भी गर्मी नहीं लगती। ये सीट ऑनलाइन या कार एसेसरीज की शॉप पर तीन हजार रुपए की कीमत में मिल जाते हैं।

6. कॉर्टन सीट्स कवर
कार में सीट पर कॉर्टन सीट कवर लगवा सकते हैं। ये ज्यादा महंगे नहीं आते हैं और डायरेक्ट सनलाइट पड़ने पर भी उतने गर्म नहीं होते हैं, जितने कि लेदर सीट गर्म हो जाती हैं। लेकिन, इस बात का ध्यान जरूर रखिएगा कि अगर आपकी कार में साइड साइड एयरबैग्स दिए गए हैं तो इन सीट कवर्स को अवोइट करना ही बेहतर ऑप्शन है। इसकी जगह आप टॉवल यूज कर सकते हैं। इससे साइड एयरबैग्स सही तरह से काम कर सकेंगे।

कार को ठंडा करने के ट्रिक्स

  • ट्रिक-1 : सबसे पहले ड्राइवर साइ़ड का गेट खोलिए और इग्निशन ऑन करके पैसेंजर साइड की विंडो भी खोल लीजिए। इसके बाद ड्राइवर साइड के गेट को पंखे की तरह हिलाइए। ऐसा करने से गाड़ी के अंदर की हवा सर्कूलेट होकर जल्दी बाहर निकल जाएगी।
  • ट्रिक-2 : कार में बैठने से पहले चारों गेट और डिग्गी ओपन कर दें। इसके बाद AC को फुल पर ऑन कर दें। इससे कार के अंदर की गर्म हवा सर्कुलेट होना शुरू हो जाएगी। 2 से 5 मिनट बाद कार के सभी दरवाजे और आप कार के केबिन को ठंडा पाएंगे।
  • ट्रिक-3 : अगर आपके पास टाइम नहीं है, तो आप गाड़ी को कुछ दूरी तक चारों विंडो खोलकर चलाइए। अंदर की सारी गर्म हवा बाहर निकल जाएगी। जितनी जल्दी गर्म हवा बाहर निकलेगी उतना ही जल्दी ऐसी केबिन को ठंडा कर देगा।
  • ट्रिक-4 : कार में अगर ऑटोमेटिक क्लाईमेट कंट्रोल है तो उसे ऑटो मोड पर रखें। इससे एयर फ्लो अपने-आप मेंटेन रहता है और AC कार के अंदर के टेम्पेरेचर के हिसाब से कूलिंग करता है। टेम्प्रेचर ज्यादा होता है तो एयर फ्लो बढ़ जाता है और टेम्प्रेचर ज्यादा होता है तो एयर फ्लो कम हो जाता है।
  • ट्रिक-5 : जब कार का केबिन ठंडा होने लगे या आपके लगे कि अब काफी ठंडा हो गया है तो रीसर्क्युलेशन मोड ऑन कर दें। इसे ऑन करने से कार का एसी बाहरी हवा के इस्तेमाल को बंद कर देगा और कार के अंदर की ठंडी हवा को यूज करेगा। इससे कार के केबिन को और ज्यादा कूल करने में मदद मिलेगी।

एक्सपर्ट व्यू : ऑटो एक्सपर्ट अमित खरे बताते हैं कि गर्मी के दिनों में कार हमेशा छाव में खड़ी करना चाहिए। इससे कैबिन के अंदर का टेम्प्रेचर बाहर के मुकाबले 10-15 डिग्री कम हो जाएगा। अगर गाड़ी धूप में खड़ी करना पड़ जाए तो कभी भी सीधे एंट्री नहीं करना चाहिए। कार के सारे दरवाजे खोलकर थोड़ा इंतजार करना चाहिए ताकि अंदर की हीट कम हो जाए।

गर्मी के दिनों में रोड काफी गर्म हो जाते हैं, इसलिए टायर प्रेशर को मेंटेन रखना जरूरी है। हो सके तो टायर में हमेशा नाइट्रोजन गैस डलवाएं। ये नॉर्मल हवा के मुकाबले ठंडी रहती है और टायर को गर्म नहीं होने देती। गर्मियों में कार में रखे परफ्यूम, डियोड्रिंट और गैसिटिक इक्यूपमेंट्स हटा देना चाहिए। क्योंकि इनमें कोई सेफ्टी वॉल्व नहीं होते हैं और टेम्प्रेचर बढ़ने से ये सभी ब्लास्ट हो सकते हैं।

खबरें और भी हैं…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here