वॉशिंगटन24 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

अमेरिका के पूर्व विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने ‘नेवर गिव एन इंच: फाइटिंग फॉर द अमेरिका आई लव’ किताब लिखी है।

14 फरवरी 2019 को बालाकोट में भारतीय सेना की सर्जिकल स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान, भारत पर परमाणु हमले की तैयारी कर रहा था। इस बात का दावा अमेरिका के पूर्व विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने अपनी एक किताब में किया है। इसमें उन्होंने तत्कालीन भारतीय समकक्ष सुषमा स्वराज का हवाला दिया है।

माइक पोम्पियो ने अपनी किताब में बताया कि 27-28 फरवरी 2019 को अमेरिका-उत्तर कोरिया शिखर सम्मेलन के दौरान उनकी बात भारत की तत्कालीन विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से हुई थी। तब सुषमा स्वराज ने उन्हें बताया था कि पाकिस्तानियों ने हमले के लिए अपने परमाणु हथियार तैयार करना शुरू कर दिया है। भारत भी तैयारी कर रहा था।

भारत-पाक की लड़ाई परमाणु हमले के काफी करीब थी
माइक ने अपनी किताब ‘नेवर गिव एन इंच: फाइटिंग फॉर द अमेरिका आई लव’ में लिखा- मुझे नहीं लगता कि दुनिया जानती भी है कि नहीं कि फरवरी 2019 में भारत-पाकिस्तान की लड़ाई परमाणु हमले के कितनी करीब आ गई थी। सच तो यह है कि मुझे भी इसका सही जवाब नहीं पता, लेकिन मैं बस इतना जानता हूं कि दोनों देश न्यूक्लियर अटैक के काफी करीब थे।

पूर्व विदेश मंत्री पोम्पियो ने अपनी नई किताब में सर्जिकल स्ट्राइक के बारे में बातें लिखी हैं।

पूर्व विदेश मंत्री पोम्पियो ने अपनी नई किताब में सर्जिकल स्ट्राइक के बारे में बातें लिखी हैं।

वियतनाम में हुई थी भारत-US की बात
इंडियन एयरफोर्स ने 26 फरवरी को बालाकोट एयरस्ट्राइक की थी। पोम्पियो ने किताब में बताया है कि 27-28 फरवरी को वे अमेरिका-उत्तर कोरिया शिखर सम्मेलन के लिए वियतनाम के हनोई में थे। इस मुद्दे को लेकर उनकी टीम ने भारत और पाकिस्तान के साथ बात की थी। भारत के लड़ाकू विमानों ने पुलवामा आतंकी हमले में मारे गए CRPF के 40 जवानों का बदला लेने के लिए बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादी प्रशिक्षण शिविर को तबाह कर दिया था।

पोम्पियो बोले- उस रात को कभी नहीं भूलूंगा
पोम्पियो ने लिखा- मैं उस रात को कभी नहीं भूलूंगा। मैं हनोई में था। एक तरफ उत्तर कोरियाई के परमाणु हथियारों पर चर्चा हो रही थी। दूसरी तरफ भारत और पाकिस्तान ने सालों से जारी कश्मीर मुद्दे पर एटमी हमले की धमकी देना शुरू कर दिया। जब भारतीय समकक्ष ने बताया कि पाकिस्तान परमाणु हमले के लिए तैयार है और वो भी जवाब देंगे, तब मैंने उनसे कुछ नहीं करने और सब कुछ ठीक करने थोड़ा वक्त देने के लिए कहा।

मैंने पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा के साथ बातचीत की। उन्हें बताया कि भारतीय समकक्ष ने मुझे परमाणु हमले के बारे में जानकारी दी है, लेकिन बाजवा ने कहा कि यह सच नहीं है। पोम्पेओ के दावों पर अमेरिकी विदेश मंत्रालय की ओर से तत्काल कोई टिप्पणी नहीं की गई।

पुलवामा हमले में 40 भारतीय सैनिक मारे गए थे
14 फरवरी 2019 को पुलवामा में CRPF जवानों के काफिले पर आतंकी हमला हुआ था। इसमें 40 जवान शहीद हुए थे। इसी का जवाब देते हुए इंडियन एयरफोर्स ने 26 फरवरी को पाकिस्तान के कब्जे बाले कश्मीर (POK) के बालाकोट में एयरस्ट्राइक की थी। इसमें जैश के ठिकानों पर बम बरसाए गए, जिसमें करीब 300 आतंकी मारे गए थे। इस दौरान पाकिस्तानियों ने जवाबी कार्रवाई करते हुए हवाई हमले में एक भारतीय विमान को मार गिराया था और एक भारतीय पायलट को बंदी बना लिया था।

भारत-पाकिस्तान से जुड़ी ये खबर भी पढ़ सकते हैं…

भारत से बातचीत की गुहार…फिर चंद घंटों में पलटा पाकिस्तान, कहा- किसी मुद्दे पर रुख नहीं बदला

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शाहबाज शरीफ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बातचीत के लिए मैसेज भेजा था। शाहबाज ने कहा, ‘भारतीय लीडरशिप और प्रधानमंत्री मोदी को मेरा संदेश है कि आइए मेज पर बैठते हैं और हमारे बीच के कश्मीर जैसे मसलों पर समझदारी से बात करते हैं। पढ़ें पूरी खबर…

PoK में घुसकर 19 शहीदों के बदले मारे 40 आतंकी,4 दिन दुश्मन के इलाके में रेकी की

29 सितंबर 2016 का दिन था। भारत के DGMO यानी डायरेक्टर जनरल मिलिट्री ऑपरेशन के लेफ्टिनेंट जनरल रणवीर सिंह एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हैं। उन्होंने ऐलान किया- ‘भारत ने सीमापार आतंकियों के लॉन्च पैड पर सर्जिकल स्ट्राइक की है।’ मतलब ये कि भारतीय सेना ने पहली बार LoC पार पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में घुसकर आतंकियों के लॉन्च पैड तबाह कर डाले। ये न सिर्फ उरी हमले का बदला था, बल्कि पाकिस्तान को एक खुली चेतावनी थी कि जब-जब आतंकी हमला होगा, भारत उनके घर में घुसकर मारेगा।

सैन्य रणनीति की पढ़ाई में इस तरह के हमलों को प्रीएम्टिव स्ट्राइक कहते हैं। अब तक अमेरिका और इजराइल जैसे देश इस तरह की आक्रामक स्ट्रैटजी को अपनाते आए थे। भारत के इस कदम से दुनिया हैरान रह गई। पढ़ें पूरी खबर…

खबरें और भी हैं…



Source link

Leave a Reply